सुधर जाओ


इस नक्सल के कहर को क्या कहें
नृशंसा हत्या या अत्याचार
क्या उनके परिवार में नहीं कोई
भई बंधु ,या ये सब बेकार


सोते हुए को  यात्रियों  को  मारकर
क्या मिला उन्हें कोई बताये
साधारण जनता पर कहर ढा कर
मिल जाएगा क्या उन्हें जो वो चाहे


इस तरह न होगा कुछ हासिल 
चाहे जितना कर ले दहशतगर्दी 
बेबस जनता को कमजोर ना समझ 
बांधेंगे कफ़न और पहनेंगे वर्दी 


तिस पर भी अगर ये न सुधरे
तो समर्थक हम जुटाएंगे 
सरकार को देकर समर्थन हम 
एकजूट हो जायेंगे 


पर हम न चाहे ये नृशंसता 
हम में बसा है मोह माया ममता 
पर संवेदन शून्य इन नक्सालियों को 
हम भी दिखाएँगे अपनी क्षमता  

Advertisements

2 responses to this post.

  1. jaane wo din kab aayega jab ham apni kshamta dikhayenge…abhi to bas napunsakta hi dikha rahe hain…waise sundar kavita…

    Reply

  2. बहुत बढिया सामयिक रचना है।बधाई।

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: