देश बेच डाला


बस्तों और किताब ने मिलकर 
बचपन खो डाला 
माता-पिता के दबाव ने मिलकर 
बचपन धो डाला 


समाज के कुरीतियों ने तो 
शोषण कर डाला 
प्रशासन की अकर्मण्यता ने तो 
सेंध लगा डाला 


सरकार की ढुलमुल नीतियों ने तो 
महंगाई कर डाली 
विरोधियों की राजनीति ने तो 
नक्सल बना डाला 


पडोसी देश के हुज्जत ने तो 
नीद उड़ा डाली .
कोई आश्चर्य नही की इन सबने 
देश बेच डाला  

Advertisements

6 responses to this post.

  1. bahoot khoob…

    Reply

  2. very nice!

    Reply

  3. बहुत सुन्दर कविता…***********************'पाखी की दुनिया' में आपका स्वागत है.

    Reply

  4. बहुत खूब!

    Reply

  5. समसामयिक विषयों पर एक अच्छी रचना..आभार !!

    Reply

  6. Badi Achhi baat likhi hai aapne. In sabne desh bech dala vaali line kuch jam nahi rahi.

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: