छोटा सा,एक रत्ती ,चूहा………


  छोटा सा,एक रत्ती ,चूहा एक नन्हा 
आँखे अभी खुली नही एकदम काना 
टूटा एक दराज का जाली से भरा कोने में 
माँ के सीने से चिपक कर उनकी बाते सुने रे 
जैसे ही उसकी बंद आँखे खुली दराज के अन्दर 
देखा बंद है कमरा उसका लकड़ी का है चद्दर 
खोलकर अपने गोल-गोल आँखे देख दराज को बोला 
बाप  रे बाप!ये धरती सचमुच है कितना ss बड़ा 
कवी सुकुमार राय द्वारा रचित कविता का अनुवाद
इस  कविता  में  एक  सद्यजात चूहे की मनस्थिति का वर्णन किया गया है कोई भी बच्चा जनम लेने के पश्चात धीरे धीरे देखना शुरू करता है जनम के तुरंत बाद आँखे नही खुलती खुलती है तो देखने की क्षमता नही होती .इस कविता में इसी स्थिती का वर्णन किया गया है की जब उसकी आँखे खुली और देखना शुरू किया तो वो छोटा सा दराज़ भी बहुत बड़ा लगने लगा . 
Advertisements

2 responses to this post.

  1. Cute! Lekin ek choti si explanation ise aur bhi intersting bana degi.

    Reply

  2. बहुत सुन्दर

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: