कविता रच डाली


आसमान में बादल छाया 

छुप गया सूरज शीतल छाया 
मेरे इस उद्वेलित मन ने 
          कविता रच डाली 
Storm Watchठंडी हवा का झोंका आया 
कारी बदरी मन भरमाया 
मन-मयूर ने पंख फैलाकर 
          कविता रच डाली 
गीली मिटटी की खुश्बू से 
श्यामल-श्यामल सी धरती से 
मन के अन्दर गीत जागा और 
            कविता रच डाली 
ये धरती ये कारी बदरी 
मन को भरमाती ये नगरी 
उद्वेलित कर गयी इस मन को और मैंने 
                        कविता रच डाली
Advertisements

4 responses to this post.

  1. Vakai mein, ise kahte hain mitti ki saundhi-saundhi khushboo!

    Reply

  2. गीली मिटटी की खुश्बू ….hoti hi aisi hai!!

    Reply

  3. kavi man aisa hi hota hai…kab kis baat par kavita rach daale kahna kathin hai…bahut sundar…

    Reply

  4. बहुत से कारण होते हैं कविता रचने के और उन्हें बहुत ही खूबसूरती से पिरोया है कविता मे।

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: