मन बंजारा


मेरे इस रेगिस्तान मन में
 बूँद प्यार का गर टपक जाए
  रेत गीली हो जाय
   दिल का दामन भर जाय


    जन्मों से प्यासे इस मन को
     प्यार का जो सौगात मिला
      मन पंछी बन उड़ जाए
       रहे न जीवन से गिला


        जाने क्यों मन भटका जाय
         ढूंढे किसे ये मन बंजारा
          है आवारा बादल की तलाश
           पाकर मन कहे ‘मै हारा’


             इतना प्यार उड़ेलूँ उसका ..
              आवारापन संभल जाए
               वो बूँद बन जाए बादल का
                और इस सूखे मन में टपक जाए

Advertisements

9 responses to this post.

  1. प्यार के एहसास से सजी एक खूबसूरत रचना.

    Reply

  2. सुन्दर रचना ! प्रभावशाली !

    Reply

  3. सुन्दर अभिव्यक्ति……apke blogs par aaker achha laga….sabhi blog bade achhe banaye hain …

    Reply

  4. सुन्दर अभिव्यक्ति……apke blogs par aaker achha laga….sabhi blog bade achhe banaye hain …

    Reply

  5. Vah ana ji, bahut hi khoobsurat bhavon ki prabhavshali abhivyakti—shubhkamnayen.Poonam

    Reply

  6. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने! बधाई! मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/http://seawave-babli.blogspot.com

    Reply

  7. भावपूर्ण रचना सुन्दर

    Reply

  8. बंजारा मन की बहुत सुन्दर तलाश…बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति…

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: