आँखों से झांकते………..


             (1)
आँखों से झांकते हुए तुम दिल में उतर गए
हया का पर्दा है जो तुम्हे मुझसे है अलग करता
             (2)
तुम्हे पाने की आरज़ू ने मुझे दीवाना बना दिया
तुम्हारे प्यार को पाना मैंने मकसद बना लिया
तुम्हे न पाने से जो सूरत-ए-हाल होगा सनम
ये सोचना भी दिल गवारा नही करता
Advertisements

13 responses to this post.

  1. वह वह बहुत ही उम्दा शब्द इस्तमाल !हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर आये ! Music BolLyrics MantraShayari Dil SeLatest News About Tech

    Reply

  2. मन की भावनाएंऔरमन भावन शब्द ….सुन्दर काव्य !!

    Reply

  3. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    Reply

  4. "तुम्हे पाने की आरज़ू ने मुझे दीवाना बना दियातुम्हारे प्यार को पाना मैंने मकसद बना लिया"वाह … क्या बात है बहुत सुन्दर

    Reply

  5. आज मंगलवार 8 मार्च 2011 केमहत्वपूर्ण दिन "अन्त रार्ष्ट्रीय महिला दिवस" के मोके पर देश व दुनिया की समस्त महिला ब्लोगर्स को "सुगना फाऊंडेशन जोधपुर "और "आज का आगरा" की ओर हार्दिक शुभकामनाएँ.. आपका आपना

    Reply

  6. nice one…ana ji…आपकी यह नज़्म बहुत अच्छी लगी हमें

    Reply

  7. बहुत खुब दोनो शेर बेहतरीन है आरजू, कब पूरी होती है?शुभकामनाये

    Reply

  8. :)…dil se likhi panktiyan achchi lagti hai!

    Reply

  9. सुन्दर…

    Reply

  10. प्‍यार के रंग अजीब होते हैं। अच्‍छे नज्‍म।

    Reply

  11. SUNDER SHAYRI

    Reply

  12. बहुत खूब ,बधाई

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: