साजन तुम कब आओगे


साजन तुम कब आओगे
.
तुम्हारे कदमो की हल्की सी आहट से
ये दिल परेशां हुआ
टूट न जाए ये प्यार के धागे
मतवारा ये प्यार हुआ
.
तुम कब समझ पाओगे
साजन तुम कब आओगे
.
चाहे सांझ हो या चाहे सवेरा
ये मन धडका जाए
तुम तो सजन नींदों से सोये
हाय! मुझे नींद न आये
.
तुमने प्यार छुपाया लेकिन
मुझ से न छुप पाया
मेरे मन की अन्धकार में
प्यार का दीया जलाया
.
सावन की बदरी तुम बनकर
कब मन को तर जाओगे
साजन तुम कब आओगे

Advertisements

2 responses to this post.

  1. awesome post , keep up the gud work

    Reply

  2. Posted by tanvir sidharth on February 28, 2011 at 6:04 pm

    Khoobsoorat. Bahut Pahle suni ek ghazal yaad aagayi “pardesi kab aaoge, kab tak aankh churaoge”.

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: