जल रही…..


जल रही है धरती 
जल रहा है गगन 
                        आग उगल रही है 
                       ज़मीं और पवन 
झुलसाती है धूप
तरसाती है पानी 
                            ये गरमी भी ना जाने 
                           लेंगी कितनी जानें
लू के थपेड़ों ने 
बरपा रखी है आग 
                         सूरज की किरणे भी 
                           जला रही है गात 
दिन गिनते पल बीते 
आस वर्षा-आगमन की 
             समय है नेह बरसने का 
             औ बुझ जाए तपन धरा की 
Advertisements

21 responses to this post.

  1. सुन्दर प्रस्तुति..

    Reply

  2. bahut achchi lagi.

    Reply

  3. बहुत ही सुंदर कविता !…और बहुत ही गहरे भाव !

    Reply

  4. बहुत भावभीनी प्रस्तुति।

    Reply

  5. सुंदर रचना

    Reply

  6. सामयिक सुन्दर रचना

    Reply

  7. उम्दा अभिव्यक्ति!!

    Reply

  8. बहुत बढ़िया कविता ….आभार

    Reply

  9. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (25.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये……"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    Reply

  10. बहुत सुन्दर रचना प्रस्तुति….आभार

    Reply

  11. सच है अब तो बरस ही जाना चाहिए इस बारिश को …

    Reply

  12. achchi rachna..bhavpranav…..sadhuwad..

    Reply

  13. neh kee baarish … to phir kaisi jalan

    Reply

  14. सुंदर है बहन जी ….एक परिपूर्ण अभिव्यक्तिमेरे ब्लॉग पर भी पधारे

    Reply

  15. फिर से भर आये बदरा फिर बरसेगा पानी आ गयी फिर रुत वो सावन की फिर हो गयी कोई आपने सजन की दीवानी….

    Reply

  16. बहुत बढ़िया और शानदार रचना ! बेहतरीन प्रस्तुती!टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-http://seawave-babli.blogspot.com/

    Reply

  17. इधर भी परेशानी थी पर सुखांत –नेह-निमंत्रण परसे* नैना | *परोसना जन्म-जन्म के करषे* नैना | | *आकर्षित प्रियतम को अबतरसे नैना |कितने लम्बे-अरसे नैना ||हौले – हौले बरसे नैना |जाते अब तो मर से नैना ||अब आये क्यूँ घर से नैना | जरा जोर से हरसे नैना ||

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: