शाम से आंख में……


 शाम से आंख में नमी सी है,
 आज फिर आपकी कमी सी है.

 दफन कर दो हमें तो साँस आये,
 देर से सांस कुछ थमी सी है ;

कौन पथरा गया है आँखों में ?
बर्फ पलकों में तो जमी सी है

 शाम से आंख में नमी सी है ,
 आज फिर आपकी कमी सी है

Get this widget | Track details | eSnips Social DNA

Advertisements

3 responses to this post.

  1. बहुत खूबसूरत गीत ..

    Reply

  2. बहुत खूबसूरत गीत ..

    Reply

  3. Beete lamhon ko taaj karne ke liye aabhar!

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: