दिल दीवाना


Love Image 402411
मैं हूँ और मेरे साथ है मेरा दिल दीवाना
ये भी जालिम कभी  कभी बनता बेगाना


साकिओं मैंखानो में बस तू ही तू है
ख़्वाबों की जहां में भी तेरी आरज़ू है


इस कमबख्त दिल को तूने लूट लिया
रिश्ता  तुमने मुझसे आखिर जोड़ लिया


जाने किस घडी में मैं जो बना दीवाना
तुमने भी उस घडी से नाता जोड़ लिया


अब इस जालिम दिल पर मेरा बस नहीं चलता
तेरा मेरा रिश्ता जाहिर हो ही गया




Advertisements

17 responses to this post.

  1. इस कमबख्त दिल को तूने लूट लियारिश्ता तुमने मुझसे आखिर जोड़ लिया |बहुत खूब दोस्त जी |सुन्दर रचना |

    Reply

  2. कल 30/08/2011 को आपके दिल की बात नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    Reply

  3. सूफियाना गंध

    Reply

  4. waah… bahut khoob kahi…

    Reply

  5. बहुत सुन्दर रचना |

    Reply

  6. आपकी पोस्ट की हलचल आज यहाँ भी है

    Reply

  7. अच्‍छा है। आभार आपका आप मेरे ब्‍लाग तक आए

    Reply

  8. Umda prastuti

    Reply

  9. इस सुन्दर रचना पर टिप्पणी में देखिए मेरे चार दोहे-अपना भारतवर्ष है, गाँधी जी का देश।सत्य-अहिंसा का यहाँ, बना रहे परिवेश।१।शासन में जब बढ़ गया, ज्यादा भ्रष्टाचार।तब अन्ना ने ले लिया, गाँधी का अवतार।२।गांधी टोपी देखकर, सहम गये सरदार।अन्ना के आगे झुकी, अभिमानी सरकार।३।साम-दाम औ’ दण्ड की, हुई करारी हार।सत्याग्रह के सामने, डाल दिये हथियार।४।

    Reply

  10. भावनाओं की सुन्दर अभिव्यक्ति .बधाई blog paheli

    Reply

  11. बहुत ही सुन्दर….

    Reply

  12. दिल तो दिल हैलूटता भी हैलुटता भी हैनिरंतरधड़कता भी हैटूटता भी हैबहकता भीरोता भी हैजलता भी है dil ke baare mein pataa chalaa bahut khoob

    Reply

  13. बहुत खूब …

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: