घोर घनघटा…………


डूबा दिन ढल गयी शाम ,रोक न पाऊँ मैं
आकाश सज गए तारों से ,कदम बढाऊँ मै

Animation Image 398564
घोर घनघटा नहीं चांदनी , न रोशनी तारों की
उतावला मन बिखरा पल , उठे मन में विचारें भी

न हो ये शाम रात बदनाम , दिल बरबस तनहा
मन बेचैन…सगरी रैन कब होवे सुबहा

जाने क्या दिन का राज़ , उत्फुल्ल है मन
रोशन है जग सारा ,हुआ मन रोशन

Advertisements

12 responses to this post.

  1. बहुत खुबसूरत प्रस्तुति ….

    Reply

  2. बहुत सुंदर भावों से लिखी शानदार अभिब्यक्ति /बधाई आपको /please visit my blog .thanks.www.prernaargal.blogspot.com

    Reply

  3. सुन्दर प्रस्तुति

    Reply

  4. खूबसूरत मनोभावों की उतनी ही खूबसूरत प्रस्तुति ! बहुत सुन्दर !

    Reply

  5. कल 25/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    Reply

  6. komal ehsaas se saji ek rachna..

    Reply

  7. सुन्दर रचना

    Reply

  8. बहुत ही खुबसूरत….

    Reply

  9. बहुत सुन्दर रचना , सुन्दर भावाभिव्यक्ति .कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें.

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: