चलो न चले


चलो न चले 
पकडे डूबते सूरज को 
जाने न दे उसे 
 रोक ले क्षितिज में

चलो न चले 
बहते पवन के साथ 
चलते चले हम भी 
कहीं कोई पुरवाई चले 

चलो न चले 
चाँद की धरातल पर 
सूत कातती है वहाँ 
एक अनजानी सी बुढिया

रोक ले उसे 
मत कातो ये धागे 
ये धागे 
रिश्ते नहीं बुनते 

चलो न चले 
उस जहां में जहां 
न सूरज डूबे 
न ही कोई रिश्ता टूटे 
Advertisements

18 responses to this post.

  1. chalo n chalenvahan par..dhartee aur aakash milen jahan par !!khoobsoorat sa khwaab…!!

    Reply

  2. बहुत सुन्दर और प्रेरक अभिव्यक्ति … मेरे ब्लांग में आने के लिए आभार…

    Reply

  3. bahut hi sundar prastuti

    Reply

  4. वाह …बहुत बढि़या।

    Reply

  5. aap sabho bloggero ko bahut bahut dhanyavad …aap ne samay nikalkar mere post ko nakewal padha balki comment se nawaza bhi….bahut bahut dhanyavad

    Reply

  6. भाव पूर्ण प्रेरक आह्वाहन ….शुभ कामनाएं !!

    Reply

  7. खूबसूरत आह्वान .. प्रेरक भी

    Reply

  8. चलो न चले उस जहां में जहां न सूरज डूबे न ही कोई रिश्ते टूटे ्…………बहुत सुन्दर चाहत्।

    Reply

  9. chalo naa chalo sundar khyaal kavitaa ke jariye baahar nikaaalte rahobahut sundar panktiyaan

    Reply

  10. रोक ले उसे मत कातो ये धागे ये धागे रिश्ते नहीं बुनते सुन्दर!

    Reply

  11. गजब की भावनाएं…आमीन…………….

    Reply

  12. ख़ूबसूरत प्रस्तुति के लिए बधाई .कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें /

    Reply

  13. चरैवेति, चरैवेति!

    Reply

  14. बेहतरीन कविता। कल 18/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    Reply

  15. चलो न चले उस जहां में जहां न सूरज डूबे न ही कोई रिश्ते टूटे…bhaut khub kaha aapne….

    Reply

  16. अभिव्यक्ति बहुत सुन्दर|

    Reply

  17. चलो न चले उस जहां में जहां न सूरज डूबे न ही कोई रिश्ते टूटे hain taiyaar hum

    Reply

  18. बहुत खूब इना जी ||बधाई ||

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: