चाँद फिर….


चाँद फिर चुपके से निकला 
धीरे-धीरे बढती आभा 
फूल मधुवन में फैले खुशबू 
गीत कोई गए आ ssss

मन वीणा के तार बज उठे 
स्वर में  है जादू लहराया 
पूरब-पश्चिम-उत्तर-दक्षिण 
चहूँ ओर से क्या स्वर आया 

दो हृदयों का मिलन देखकर 
प्राण-श्वास का प्रणय देखकर 
अंतर्मन में आस जग उठी 
चाँद डूबा कब सूरज आया 

                

चिड़ियों की कलरव गूँज उठी 
कलियाँ भी फिर से महक उठी 
उषा के मृदु किरणों के संग 
नभ पर सूरज फिर उग आया 
Advertisements

12 responses to this post.

  1. बेहद खूबसूरत लेखनी …शब्द रचना बेजोड …आभार

    Reply

  2. दो हृदयों का मिलन देखकर प्राण-श्वास का प्रणय देखकर अंतर्मन में आस जग उठी चाँद डूबा कब सूरज आया चिड़ियों की कलरव गूँज उठी ana ji kya khoob likha hai ap ne … bahut sundar abhivykti ke liye abhar … apne blog pr ak naya post apko padhane ke liye chhoda hai .

    Reply

  3. मन वीणा के तार बज उठे स्वर में है जादू लहराया पूरब-पश्चिम-उत्तर-दक्षिण चहूँ ओर से क्या स्वर आया सुन्दर…

    Reply

  4. sundar abhivyakti

    Reply

  5. सुन्दर अभिव्यक्ति /

    Reply

  6. बहुत ही सुंदर कविता

    Reply

  7. मन वीणा के तार बज उठे स्वर में है जादू लहराया पूरब-पश्चिम-उत्तर-दक्षिण चहूँ ओर से क्या स्वर आया …चाँद के आने के साथ ही प्रेम का माहोल बन जाता है … लाजवाब रचना है …

    Reply

  8. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल सोमवारीय चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    Reply

  9. बेहतरीन रचना। सुंदर अभिव्‍यक्ति।

    Reply

  10. सुंदर अभिव्यक्ति..

    Reply

  11. वाह जी बल्ले बल्ले

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: