बुझा हुआ मशाल जला दो
















बुझा हुआ मशाल जला दो 
आग की ज्वाला बढ़ा दो 
देश राग गुनगुनाकर 
एक नवीन ज्योत जला दो 

राग दीपक फिर है सुनना 
ताप में फिर से है जलना 
प्रलय आंधी भेद कर फिर-
से है तम को जगमगाना 

नेह-दीपक तुम गिराओ 
मन शहीदी को जगाओ 
ललकार जागा हर तरफ से 
विद्रोह पताका …फहराओ 

भ्रष्टता का होवे अंत 
दंड मिलना है तुरंत 
हर लौ में विप्लव की हुंकार 
गृहस्थ हो या हो वो संत 

एक चिंगारी ही है काफी 
बढ़ेंगे हम मनुज जाति 
निर्भय-निर्भीक-निडर है हम 
आन्दोलन करना है बाकी 

जीतेंगे हम हर तरफ से 
कुरीतियों से-हैवानियत से 
लक्ष्य है सुराज लाना 
क्रांति-पथ या धर्मं-पथ से 

जाने न देंगे हम ये बाजी 
मरने को  हम सब है राजी 
केसरी चन्दन का टीका-
कफ़न सर पे हमने बाँधी 


Advertisements

19 responses to this post.

  1. खरगोश का संगीत राग रागेश्री पर आधारित है जो कि खमाज थाट का सांध्यकालीन राग है, स्वरों में कोमल निशाद और बाकी स्वर शुद्ध लगते हैं, पंचम इसमें वर्जित है, पर हमने इसमें अंत में पंचम का प्रयोग भी किया है, जिससे इसमें राग बागेश्री भी झलकता है…हमारी फिल्म का संगीत वेद नायेर ने दिया है… वेद जी को अपने संगीत कि प्रेरणा जंगल में चिड़ियों कि चहचाहट से मिलती है…Feel free to surf my weblogफिल्म

    Reply

  2. शुभकामनायें …

    Reply

  3. खरगोश का संगीत राग रागेश्री पर आधारित है जो कि खमाज थाट का सांध्यकालीन राग है, स्वरों में कोमल निशाद और बाकी स्वर शुद्ध लगते हैं, पंचम इसमें वर्जित है, पर हमने इसमें अंत में पंचम का प्रयोग भी किया है, जिससे इसमें राग बागेश्री भी झलकता है…हमारी फिल्म का संगीत वेद नायेर ने दिया है… वेद जी को अपने संगीत कि प्रेरणा जंगल में चिड़ियों कि चहचाहट से मिलती है…Take a look at my web-site :: फिल्म

    Reply

  4. बहुत ही बढ़िया सादर

    Reply

  5. वाह वाह

    Reply

  6. बहुत खूब

    Reply

  7. आपकी इस बेहतरीन रचना शनिवार 18/08/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    Reply

  8. बहुत बढ़िया…..जोश से भरी….सुन्दर!!!!अनु

    Reply

  9. बहुत ओजपूर्ण कविता…स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ !!

    Reply

  10. जीतेंगे हम हर तरफ से कुरीतियों से-हैवानियत सेलक्ष्य कायम रहे ….!!

    Reply

  11. जाने न देंगे हम ये बाजी मरने को हम सब है राजी केसरी चन्दन का टीका-कफ़न सर पे हमने बाँधी Sahi Kaha aapne,Jai HInd.

    Reply

  12. वे क़त्ल होकर कर गये देश को आजाद,अब कर्म आपका अपने देश को बचाइए!स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,,RECENT POST…: शहीदों की याद में,,

    Reply

  13. Very beautifully written poem and the video on top is simply wonderful. Loved the music in it.

    Reply

  14. ज़बरदस्त लिखा है…स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!जय हिंद!

    Reply

  15. बहुत खूबसूरत रचना………………स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

    Reply

  16. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाये..

    Reply

  17. मन में आशा, विश्वास और जोश जगाती बेहद सुन्दर और सार्थक रचना…बदलेगा सब इसी आशा और विश्वास के साथ स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाये..:-)

    Reply

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: