Archive for the ‘समीक्षा’ Category

मानव अपने पुरे जीवन काल ………………


मानव अपने पुरे जीवन काल में कई अवस्थाओं से होकर  गुज़रता  है . जिसमे ब्ल्यावास्था वो अवस्था है जिसमे शिशु संपूर्ण रूप से अपने माता – पिता पर निर्भर रहता है  अर्थात अभिभावक अपने अनुसार शिशु का पालन पोषण करता है . तत्पश्चात वह बाल्यावस्था में प्रवेश करता है और  अपनी पसंद – नापसंद दर्ज कराने की कोशिश करता है . माता-पिता के ना सुनना पसंद नशीं करता सोचता है मम्मी पापा गलत है उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए .और इस तरह किशोरावस्था तक आते-आते वह माता-पिता हो गलत ठहराने को अपनी शान समझता है चूँकि वो स्वयं दिग्भ्रमित रहता है इसलिए बड़ों की हर बातें उसे नागवार लगती है और सोचता है की कितने पुराने खयालात है इनके मैं अपने बच्चों के साथ ऐसा हरगिज़ नहीं करूंगा . और इसतरह वह युवावस्था की ओर बढ़ जाता है . इस अवस्था में वह पढ़ाई और नौकरी को लेकर इस कदर उलझा रहता है की माँ बाप की हर बातें उसे उपदेश लगता है और और झुंझलाकर कहता है अब दिन पुराने जैसे नहीं रहे मुझे नहीं आपको अपने आप को बदलना पडेगा . लेकिन जैसे-जैसे वह गृहस्थ  जीवन की ओर अग्रसर होता है उसे अपने माँ बाप सही लगने लगते है . उनके हर आदर्ष अपनाने के लिए अपने बच्चों को प्रोत्साहित किया जाता है . और उमरा बढ़ने के साथ-साथ वह मानने लगता है की वो ही गलत था बल्कि उसके माँ-बाप ही सही थे .

सदियों से माउन्ट एवेरेस्ट पर्वतारोहियों के लिए आकर्षण


सदियों से माउन्ट एवेरेस्ट पर्वतारोहियों के लिए आकर्षण का केंद्र रहा है . इस आकर्षण का बानगी ये है की दुनिया भर स ५००० से ज्यादा पर्वतारोही एवेरेस्ट पर चढ़ाई करने के लिया हमारे पड़ोस में डेरा डाले बैठे है . अभी बेस कैम्प तैयार नहीं हुआ है . तैयार होते ही इन्हें चढ़ाई करने की अनुमति मिल जाएगी . एवेरेस्ट के अलावा ज्योयो ,ज़िज़ियाबंगामा चोटियाँ भी इनके लिस्ट में है .यह खबर हिन्दुस्तान दिनांक १६ अप्रैल २०१० से लिया गया